इस ब्लॉग के बारे में

अपने बारे में मैं इतना ही कहना चाहूँगा की में ज्योतिष का एक विद्यार्थी हूँ|

करीब २७ वर्षों से में ज्योतिष के विभिन्न पहलुओं का अध्ययन कर रहा हूँ| भारतीय ज्योतिष का में सम्मान करता हूँ| साथ ही साथ जहाँ तर्क का समर्थन न हो, उसे में आसानी से स्वीकार नहीं करता|

मेरे निजी अनुभव में मैंने पाया की भारतीय ज्योतिष जिस रूप में आज प्रचलित है उसमे काफी विसंगातए है| दूसरे विषयों की तुलना में ज्योतिष की सबसे बड़ी दिक्कत यह है की इस विषय का कोई सर्व मान्य अभ्यासक्रम नहीं है| अलग अलग विद्वान अपनी अपनी अनुकूलता के आधार पर विभिन्न सिद्धांतों को ले कर चलते है| घटना घटित हो जाने के पश्च्यात उसे ज्योतिष के कुछ न कुछ नियमों से प्रमाणित कर के अपनी विद्वता के कसीदे पढ़े जाते रहे है| धनोपार्जन का दबाव इस तरह हावी हो चुका है की प्रामाणिक अनुसन्धान के लिए किसी के भी पास अवकाश ही नहीं है|  कुंडली के ग्रह, उनका बाला-बल व् आपसी संयोगो का तार्किक विश्लेषण करने के बजाय ज्योतिष के ग्रंथो में से संस्कृत श्लोको का संदर्भ दे कर ही इति श्री  कर लेने की लालच ने कई तथाकथित ज्योतिष विद्वानों को घेर रखा है! विभिन्न स्तरों पर ज्योतिष की गोष्ठियां व् सम्मेलनों के आयोजन होते है लेकिन कुछ एक अच्छी संस्थाओं को छोड़ बाकी में अपने प्रशंसको को नाना प्रकार की विशेष उपाधियो से सम्मानित करके उनके व्यावसायिक कद को अनुचित ढंग से बढ़ाने के आलावा और कोई ठोस कार्य निष्पन्न होता नजर नहीं आता !

ज्योतिष विज्ञान  हो या कला उसके व्यवसयिको को मनोनीत करने के लिए कोई संस्था देश में जरुर होनी चाहिए| ज्योतिष के आधार पर भविष्य वाणी करने वाले विद्वानों को चाहिए के वे अपनी  भविष्य वाणी को पहले से ही एसी कोइ संस्था में पंजीकृत व् प्रकाशित करवाएं| तभी ज्योतिष में विज्ञान की ललकार को झेल ने का साहस पनप पाएगा | 

भारतीय ज्योतिष की ऐसी ही मर्यादाओं को समझने की और उसे यथा-संभव दुरस्त करने का प्रयास ही मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य है |

 :  डिस्‍क्‍लेमर :

इस ब्लॉग पर दी गई सभी लेख सामग्री मूलत: ज्योतिष विषयक मनो-मंथन हैं। मेरा उद्देश्य यहां ज्योतिष के कोइ भी मत का खंडन या पुष्टि करना कतई नहीं है| पाठक अपने विवेक के अनुसार सहमत या असहमत हो सकते है| ज्योतिषिक उपाय के सन्दर्भ में भी यह ब्लॉग या इसके एडमीनिस्ट्रेटर प्रत्यक्ष या परोक्ष, किसी भी तरह से जिम्मेवार नहीं है| इस ब्लॉग का कोई भी लेख या उसका भाग, ब्लॉग को सौजन्य देते हुए पुन: प्रकाशित किया जा सकता है।

Advertisements